लक्ष्य

हम सभी ने फुटबॉल खेल को देख चुके हैं। क्या बिना goalpost के ये खेल शम्भव है?
अगर क्रिकेट का खेल चल रहा हो तो और विकेट ही हो तो क्या ये खेल शम्भव है?
अगर एक गाडी तो है पर कहाँ तक जाएगा ये आपको पता ही नहीं तो क्या आप इस गाड़ी पर सफ़र करेंगे?

जीवन में एक लक्ष्य का होना जरुरी इन उदाहरणों में आपने देखा की हमेसा एक गंतव्य होता है जहाँ पहुचना लक्ष्य है।
आपकी जिंदगी में भी लक्ष्य इसी तरह महत्वपूर्ण है।
आप का चरित्र आपके लक्ष्य से निर्धारित होता है।

अभी आप एक 5 मिनट का समय खुद को दीजिये और खुद से पूछिये आप अगले 10 साल में खुद को कहाँ देखना चाहते हैं।
पूरा खाका लिखिए। जहाँ आप अगले 10 साल में पहुँचना चाहते हैं वहां का फोटो बना लीजिये।
उस परिस्थिति को मन में महसूस करिये।
उस सपने को जागे हुए ही देखिये।
और उस सपने को पूरा करने में जी जान से जुट जाइए।
मुश्किले तो आती हैं।

भगवान् जब आपको कोई कीमती गिफ्ट देना चाहता है तो उसकी पैकिंग ख़राब करता है वो उसे चमकने वाले प्लास्टिक में नहीं देता। वो कीमती वस्तु इसी तरह देता है। परेसानी तो उसी पैकिंग की तरह है जिसके अंदर कीमती गिफ्ट है। जब परेशानी मिले जीवन में तो याद रखें आप इस परेसानी के अंदर झाकियेगा तो एक कीमती गिफ्ट मिलेगी जो अनमोल है।

एक लक्ष्य बना लीजिये।
आज ही
अभी ही बना लिजिए

 

 

सपने देखने के लिए रात का इंतजार नहीं करिये

अधिकतर जागे हुए सपने सच होते हैं।

 

कहाँ जाना है ये तय नहीं हो तो आप कही नहीं जा पाएंगे
कभी भी नहीं

अगर मंजिल मालुम हो तो पहुच ही जायेंगे
आज नहीं तो कल

कहाँ जाना है ये तय नहीं हो तो आप कही नहीं जा पाएंगे
कभी भी नहीं

अगर मंजिल मालुम हो तो पहुच ही जायेंगे
आज नहीं तो कल

आपके जीवन में शुभ घटित होने की शक्ति भगवन आपको प्रदान करें।
मेरी शुभकामना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *